रहीम के दोहे हिन्दी में | Rahim ke Dohe in Hindi with meaning

Advertise with IZEA Media

Rahim ke Dohe in Hindi with meaning

क्षमा बड़न को चाहिये, छोटन को उतपात।Rahim Ke Dohe
कह रहीम हरि का घट्यौ, जो भृगु मारी लात॥1॥

अर्थ: बड़ों को क्षमा शोभा देती है और छोटों को उत्पात (बदमाशी)। अर्थात अगर छोटे बदमाशी करें कोई बड़ी बात नहीं और बड़ों को इस बात पर क्षमा कर देना चाहिए। छोटे अगर उत्पात मचाएं तो उनका उत्पात भी छोटा ही होता है। जैसे यदि कोई कीड़ा (भृगु) अगर लात मारे भी तो उससे कोई हानि नहीं होती।


तरुवर फल नहिं खात है, सरवर पियहि न पान।
कहि रहीम पर काज हित, संपति सँचहि सुजान॥2॥

अर्थ: वृक्ष अपने फल स्वयं नहीं खाते हैं और सरोवर भी अपना पानी स्वयं नहीं पीती है। इसी तरह अच्छे और सज्जन व्यक्ति वो हैं जो दूसरों के कार्य के लिए संपत्ति को संचित करते हैं।


दुख में सुमिरन सब करे, सुख में करे न कोय।
जो सुख में सुमिरन करे, तो दुख काहे होय॥3॥

अर्थ: दुख में सभी लोग याद करते हैं, सुख में कोई नहीं। यदि सुख में भी याद करते तो दुख होता ही नहीं।


खैर, खून, खाँसी, खुसी, बैर, प्रीति, मदपान।
रहिमन दाबे न दबै, जानत सकल जहान॥4॥

अर्थ: दुनिया जानती है कि खैरियत, खून, खांसी, खुशी, दुश्मनी, प्रेम और मदिरा का नशा छुपाए नहीं छुपता है।


जो रहीम ओछो बढ़ै, तौ अति ही इतराय।
प्यादे सों फरजी भयो, टेढ़ो टेढ़ो जाय॥5॥

अर्थ: ओछे लोग जब प्रगति करते हैं तो बहुत ही इतराते हैं। वैसे ही जैसे शतरंज के खेल में जब प्यादा फरजी बन जाता है तो वह टेढ़ी चाल चलने लगता है।


बिगरी बात बने नहीं, लाख करो किन कोय।
रहिमन बिगरे दूध को, मथे न माखन होय॥6॥

अर्थ: जब बात बिगड़ जाती है तो किसी के लाख कोशिश करने पर भी बनती नहीं है। उसी तरह जैसे कि दूध को मथने से मक्खन नहीं निकलता।


आब गई आदर गया, नैनन गया सनेहि।
ये तीनों तब ही गये, जबहि कहा कछु देहि॥7॥

अर्थ: ज्यों ही कोई किसी से कुछ मांगता है त्यों ही आबरू, आदर और आंख से प्रेम चला जाता है।


खीरा सिर ते काटिये, मलियत नमक लगाय।
रहिमन करुये मुखन को, चहियत इहै सजाय॥8॥

अर्थ: खीरे को सिर से काटना चाहिए और उस पर नमक लगाना चाहिए। यदि किसी के मुंह से कटु वाणी निकले तो उसे भी यही सजा होनी चाहिए।

Read More Rahim ke Dohe in Hindi: 

Page 1  Page 2  Page 3  Page 4  Page 5  Page 6  Page 7  Page 8  Page 9

This entry was posted in Rahim Ke Dohe and tagged , . Bookmark the permalink.

7 Responses to रहीम के दोहे हिन्दी में | Rahim ke Dohe in Hindi with meaning

  1. Pingback: रहीम के दोहे हिन्दी में | Rahim ke Dohe in Hindi with meaning - Page9DOHE

  2. Rajiv says:

    many dohas you have mention in these pages of KABIR . in name of
    RAHIM Ji Which is wrong like 1.Bura jo dekhan Chala///2.bada hu to
    kiya hua jaise ped khjur these two are of Kabir it no good thing.

  3. It’s really great to have the whole collection of saints on a single website
    Thanks a lot for doing such a great job

  4. ye dhohe 2nd semester mn mujhe boht kaam mn aaye thanks raheem ji its awesome

  5. chanchal beniwal says:

    I love this done because it’s meaning is very nice

  6. Dayanidhi Mishra says:

    Dohe bahut achhe lage . Lekin kisike doheko aur kisika bataana thik nahin jaise Rajeev ne bataya.

Leave a Reply