कबीर दास के दोहे हिन्दी में | Kabir Das ke Dohe in Hindi with meaning

Advertise with IZEA Media

Kabir Das ke Dohe in Hindi with meaning

मान बड़ाई देखि कर, भक्ति करै संसार।Kabir das ke dohe in hindi
जब देखैं कछु हीनता, अवगुन धरै गंवार।।

संत कबीरदास जी कहते हैं कि दूसरों की देखादेखी कुछ लोग सम्मान पाने के लिये परमात्मा की भक्ति करने लगते हैं पर जब वह नहीं मिलता वह मूर्खों की तरह इस संसार में ही दोष निकालने लगते हैं।


कुल करनी के कारनै, हंसा गया बिगोय।
तब कुल काको लाजि, चारि पांव का होय॥

संत शिरोमणि कबीरदास जी कहते हैं कि अपने परिवार की मर्यादा के लिये आदमी ने अपने आपको बिगाड़ लिया वरना वह तो हंस था। उस कुल की मर्यादा का तब क्या होगा जब परमार्थ और सत्संग के बिना जब भविष्य में उसे पशु बनना पड़ेगा।


दुनिया के धोखे मुआ, चल कुटुंब की कानि।
तब कुल की क्या लाज है, जब ले धरा पसानि॥

कबीरदास जी कहते है यह दुनियां एक धोखा है जिसमें आदमी केवल अपने परिवार के पालन पोषण के लिये हर समय जुटा रहता है। वह इस बात का विचार नहीं करता कि जब उसका शरीर निर्जीव होकर इस धरती पर पड़ा रहेगा तब उसके कुल शान का क्या होगा?


कहै हिन्दु मोहि राम पिआरा, तुरक कहे रहिमाना।
आपस में दोऊ लरि-लरि मुए, मरम न कोऊ जाना।।

एक तरफ हिंदू हैं जो कहते हैं कि हमें राम प्यारा है दूसरी तरफ तुर्क हैं जो कहते हैं कि हम तो रहीम के बंदे हैं। दोनों आपस में लड़कर एक दूसरे को तबाह कर देते हैं पर धर्म का मर्म नहीं जानते.


कंकड़ पत्थर जोड़ के मस्जिद लियो बनाए।
ता चढ मुल्ला बांग दे क्या बहिरा हुआ खुदा॥


Read More Kabir Das ke Dohe in Hindi: 

Page 1  Page 2  Page 3  Page 4  Page 5

This entry was posted in Kabir Das Ke Dohe and tagged , . Bookmark the permalink.

5 Responses to कबीर दास के दोहे हिन्दी में | Kabir Das ke Dohe in Hindi with meaning

  1. Meet Mehta says:

    Thanks a lot. You all have helped me a lot in my Hindi Project.

  2. please give kabir dohe on vani (speaking) only five please

  3. bhai mujhe 5 kabir ke dohe de do vadi(speaking) ke upper please please

  4. shiv das says:

    कबीर जी के दोहे बिलकुल सही है , मगर इन्शान इसे अमल में नहीं लाता है क्यों की इन दोहों में बड़े राज है जैसे ,
    ०१……

  5. dalbir says:

    kabir wisdom is ever relevant, its practical always and will assist for time to come.

Leave a Reply